1977 : जानिए क्यों आम चुनाव में अखबारों ने हेडलाइन बनाई बाबू बीट्स बॉबी

1977 आम चुनाव का प्रचार ज़ोर-शोर से चल रहा था. हर तरफ चुनावी माहौल था, बताया जाता है कि इस आम चुनाव के दौरान दिल्ली के रामलीला मैदान में कांग्रेस के खिलाफ खड़े हो चुके बाबू जगजीवन राम की चुनावी सभा होनी थी. लेकिन इस सभा को असफल करने की पूरी कोशिश की गई, लेकिन ये प्रयास असफल रहा.

लोकसभा चुनाव 1997 का चुनावी समर चल रहा था, सभी पार्टियां तैयारियों में जुटी थी. बाबू जगजीवन राम भी रामलीला मैदान में सभा करने वाले थे कि दूरदर्शन ने इस सभा को असफल करने के लिए उसी वक्त बॉबी फिल्म चला दी बावजूद इसके भारी भीड़ दिल्ली के रामलीला मैदान में जुटी और अगले दिन अख़बारों में हेडलाइन छपी, ‘बाबू बीट्स बॉबी’ यानि बाबू ने बॉबी को हराया.

इस चुनाव के बाद जगजीवन राम ने पांच दूसरे कैबिनेट मंत्रियों के साथ कांग्रेस छोड़ दी थी और कांग्रेस फॉर डेमोक्रेसी नाम का संगठन बनाया था. बाद में जनता पार्टी के चुनाव जीतने के बाद वे नई सरकार में उप प्रधानमंत्री बने थे.

इंदिरा की सीट

1977 के आम चुनाव में इंदिरा गाँधी की दावेदारी मानी जाने वाली सीट रायबरेली पर समाजवादी नेता राज नारायण से मात खानी पड़ी थी. लेकिन इंदिरा गाँधी इस हार के बाद रुकी नहीं, उन्होंने अगले साल ही 1978 में, चिकमंगलूर सीट से होने वाले उपचुनाव में भाग लिया और इसको जीता भी. इस जीत ने इंदिरा के संसद पहुंचने का रास्ता खोल दिया, यहीं से उन्होंने खुद को राजनीतिक तौर पर मज़बूत किया और 1980 में वापस सत्ता पाने में कामयाब रहीं.