वकालत छोड़ एक्टिंग में कमाया नाम, पहली फिल्म के लिए 5 साल बाद मिले थे 750 रुपए

पैरेलल सिनेमा को ऊंचाइयों तक पहुचाने वाले दिग्गज एक्टर फारुख शेख का जन्म 25 मार्च 1948 को गुजरात के अमरोली में हुआ था. फारुख ने फिल्म ‘शतरंज के खिलाड़ी’, ‘उमराव जान’, ‘बाजार’, ‘चश्म-ए-बद्दूर’, ‘क्लब 60’ और कई बेहतरीन फिल्मों में अपने सादगी भरे अभिनय से सभी का दिल जीता. फारुख 5 भाई बहनो में सबसे बड़े थे. उनके पता मुंबई के जाने माने वकील थे. फारुख भी अपने पिता की तरह वकील बनना चाहते थे, लेकिन वकील बनने के बाद उन्हें यह काम जमा नहीं तो फिर उन्होंने यह काम छोड़ दिया.

also read: क्या आपको पता है कि आखिर जलेबी को इंग्लिश में क्या कहते हैं? इंटेलिजेंट लोग ही दे पाएंगे जवाब

जब फारुख को वकील की नौकरी जमी नहीं तो उन्होंने धीरे धीरे थियेटर में अपनी रुचि बढ़ाई। जिसके बाद उन्होंने कई नाटकों में अभिनय भी किया. उनकी बेहतरीन एक्टिंग देख कर फिल्म डायरेक्टर एम एस सैथ्यू ने उन्हें गर्म हवा फिल्म ऑफर हुई थी. फिल्म ऑफर करते वक़्त डायरेक्टर ने ये शर्त रक्खी थी कि उन्हों इसके बदले कोई फीस नहीं मिलेगी. फिल्म रिलीज़ के 5 साल बाद फारुख को करीब 750 रुपए मिले थे. इन 5 सालों के भीतर फारुख को कई फिल्मों के ऑफर आने लगे थे.

फारुख एक संपन्न परिवार से थे, लेकिन पिता के निधन के बाद उन्होंने ही अपने छोटे भाई बहनों की ज़िम्मेदारी उठाई. केवल पैसो के लिए फिल्मों में काम करना फारुख को मंज़ूर नहीं था इस लिए उस वक़्त जब दूसरे एक्टर्स दर्जनों फिल्म साइन करते थे, वही फारुख साल में 1 या 2 से ज़्यादा फिल्मों में नहीं करते थे.

also read: JDS एमएलए की सरेआम चेतावनी, बोले- जो यहां आकर मोदी-मोदी कह रहे उनके जबड़े तोड़ो

बता दें कि फारुख फिल्मो के साथ साथ टेलीविज़न दुनिया के भी जाने माने चेहरे थे. वह छोटे पर्दे के शोर जीना इसी का नाम है से काफी फेमस हुए थे. इस शो में उन्होंने कई फेमस सेलिब्रिटी का इंटरव्यू लिया था. 30 दिसंबर 2013 में दिल का दौरा पढ़ने से फारुख का निधन हो गया था. 2014 में रिलीज़ हई फिल्म ‘यंगिस्तान’ में एक्टर फारुख शेख को आखरी बार देखा गया था.