आपकी सोच से ज़्यादा भव्य होगा राम मंदिर

भारत का राम मंदिर इतिहास बनाने के लिए तैयार है| ऐसा कहना है चंद्रकांत सोमपुरा का जिन्होंने रामलला मंदिर का नक्शा तैयार किया है और देश के कई भव्य मंदिरों के वास्तुकार भी रहे हैं| उन्होंने आगे कहा कि अगर राम मंदिर को बहुमंजिला बनाने का निर्णय होता है तो वह उसके लिए डिजाइन में बदलाव के लिए तैयार हैं और जिस तरह की तैयारियां हो रही है मंदिर भारतीय स्थापत्य कला का अद्वितीय उदाहरण होने वाला है|

मंदिर की डिज़ाइन क्या होगी ?
चंद्रकांत सोमपुरा ने बताया कि अगर श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट उन्हें कहेगी तो मंदिर को दो से तीन मंजिला बनाया जा सकता है और इसके लिए डिजाइन में परिवर्तन करने को वह तैयार हैं।

मंदिर निर्माण में कितना खर्चा आएगा ?
अगर अभी के डिज़ाइन से बताया जाये तो करीब 100 करोड़ रुपये की लागत आएगी। अगर डिजाइन में बदलाव होता है तो खर्च बढ़ सकता है।

यहाँ भी क्लिक करें : राम भक्तो के लिए रामायण एक्सप्रेस 

कितना समय और लगेगा?
निर्माण कार्य शुरू होने से लेकर पूरा बनने में दो साल का समय लगेगा | सरकार, ट्रस्ट और प्रशासनिक अमले को पूरे तीर्थ स्थल का खाका तैयार करने के साथ तय करना है कि किसे क्या जिम्मेदारी दी जाए। अहमदाबाद में 27 छोटे मंदिर का निर्माण कार्य तो हमने 15 महीने में पूरा कर दिया था। गांधीनगर स्थित अक्षरधाम मंदिर हैं तो काफी लंबा चला था, क्योंकि एक साथ बजट नहीं मिला।

क्या भगवान राम की सबसे ऊंची मूर्ती बनेगी?
भगवान राम की प्रतिमा की ऊंचाई तय करना हमारा काम नहीं है। यह 100-200 फीट या इससे ज्यादा हो सकती है। हम मूर्ति को केंद्र में रखकर मंदिर निर्माण कार्य शुरू कर देंगे। हम मूर्ति के आकार, वास्तु के हिसाब से चीजें तय कर देंगे।