जानिए क्यों गरिराज सिंह ने आज़म खान से कहा कि रामपुर आ कर बताऊंगा?

azam giriraj

उत्तर प्रदेश की राजनीति में इस वक़्त अली और बजरंगबली को लेकर घमासान मचा हुआ है. लोकसभा चुनाव के इस मेले में अब पार्टियों के बीच संग्राम शुरू हो गया है. बता दें कि अब बसपा सुप्रीमो मायावती क बाद, अब गिरिराज सिंह भी इस विवाद में कूद पड़े है. गौरतलब है कि मायवती ने ट्वीट कर कहा है कि अली और बजरंग बलि का प्रयोग स्वार्थ के लिए हो रहा है

आपको बता दें कि राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बजरंगबली वाले बयान पर सपा नेता आजम खान ने पलटवार किया. आजम ने कहा अली और बजरंगबली में झगड़ा मत कराओ. मैं तो एक नाम दिए देता हूं… बजरंगअली. अब हम अली और बजरंग एक हैं. इसके बाद अब भारतीय जनता पार्टी के फायर ब्रांड नेता और बेगूसराय से उम्मीदवार गिरिराज सिंह ने ट्वीट कर लिखा कि आजम खान ने पहले प्रधानमंत्री मोदी जी को गाली दी अब हमारे भगवान को गाली दे रहा है. आजम खान, बेगूसराय का चुनाव खत्म होने के बाद रामपुर आके हम बताएंगे कि बजरंगबली क्या हैं.

गौरतलब है कि इस विवाद की शुरुआत उस वक़्त हुई जब मेरठ में एक जनसभा को सम्बोधित करते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि अगर कांग्रेस, समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी का अली में विश्वास है, तो हमारा बजरंगबली में विश्वास है. योगी ने आगे कहा कि मायावती ने रैली में कहा कि वह सिर्फ मुस्लिम वोटरों का वोट चाहती हैं.

ये भी पढ़ें – कांग्रेस, SP-BSP का अली में भरोसा तो बीजेपी का बजरंगबली में – योगी आदित्यनाथ

वहीं इसका जवाब देते हुए मायावती ने ट्वीट कर आदित्यनाथ पर हमला बोला था. बसपा सुप्रीमो ने ट्वीट कर लिखा कि रामनवमी की देश व प्रदेशवासियों को बधाई व शुभकामनायें तथा उनके जीवन में सुख व शान्ति की कुदरत से प्रार्थना. ऐसे समय में जब लोग श्रीराम के आदर्शों का स्मरण कर रहे हैं तब चुनावी स्वार्थ हेतु बजरंग बली व अली का विवाद व टकराव पैदा करने वाली सत्ताधारी ताकतों से सावधान रहना है.

ये भी पढ़ें – जानिए निर्वाचन आयोग की आचार संहिता के बारे में, जिसके वजह से बड़े-बड़े नेता हो जाते है शांत