बिहार चुनाव : नीतीश के गढ़ नालंदा में प्रचार के अंतिम दिन जमकर बरसे तेजस्वी

Bihar Election 2020: चुनाव प्रचार के अंतिम दिन रविवार को राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के नेता तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने नालंदा (Nalanda) में दो चुनावी सभाओं को संबोधित किया. चुनावी सभा में वे कुछ अलग अंदाज में दिखे. वे भीड़ से लगातार बात करते रहे. वे लोगों से सवाल पूछते रहे और भीड़ उनके जवाब देती रही. उन्होंने भीड़ से कारखाना लगाने, रोजगार देने आदि के बारे में सवाल पूछा तो भीड़ ने ना, ना कहकर अपना जवाब दिया. तेजस्वी ने कहा कि सत्ता में आने का एक मौका दीजिए, उम्मीदों को पूरा कर देंगे. दस तारीख को नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की विदाई तय है.

तेजस्वी यादव ने कहा कि एनडीए (NDA) के 15 वर्षों के शासन में गरीबी और बेरोजगारी बढ़ी है. जो व्यक्ति 15 सालों में भी रोजगार नहीं दे सका, कारखाना नहीं लगा सका, भ्रष्टाचार नहीं रोक सका, वह अगले 15 सालों में भी कुछ नहीं कर सकता.अगर यहां सुविधा मिलती तो यहां के लोग पढ़ने के लिए कोटा व मजदूरी करने के लिए दूसरे राज्यों में नहीं जाते. हमारी सरकार बनी तो प्रतियोगी परीक्षा की सभी फीस माफ की जाएगी. परीक्षा देने जाने वाले अभ्यर्थियों का किराया भी माफ होगा. जीविका, आंगनबाड़ी, विकास मित्र, आशा व अनुबंध पर कार्यरत अन्य कर्मियों के मानदेय में चार हजार रुपये तक की बढ़ोतरी होगी.

महागठबंधन के सीएम पद के उम्मीदवार तेजस्वी यादव ने कहा कि महागठबंधन की सरकार बनी तो पहली कैबिनेट की बैठक में दस लाख युवाओं को सरकारी नौकरी दे देंगे. सरकार बनते ही एक माह के भीतर नौकरी मिलनी शुरू हो जाएगी. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार कहते हैं कि लालटेन का जमाना समाप्त हो गया. तो अब तीर का भी जमाना समाप्त हो गया. अब मिसाइल का जमाना आ गया है.

तेजस्वी यादव को सुनने के लिए भारी संख्या में लोग पहुंचे थे. भीड़ ऐसी थी कि पुलिस को संभालना मुश्किल हो गया था. लोग बेरीकेटिंग तोड़कर मंच के समीप पहुंच गए. तेजस्वी के जाते ही भीड़ बेकाबू हो गई और लोग एक दूसरे पर गिर गए जिससे कई कुर्सियां टूट गईं. हालांकि प्रशासन द्वारा सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गए थे.