सूफी गायक हंसराज हंस और सुरों के बादशाह दलेह मेहंदी का रिश्ता है अनोखा, दिलचस्प हैं इसकी कहानी

लोकसभा चुनाव 2019 के तहत बीजेपी ने उत्तर पश्चिम दिल्ली लोकसभा सीट से मौजूदा सांसद उदित राज का टिकट काट कर गायक हंसराज हंस को अपना उम्मीदवार बनाया है. बता दें, हंसराज हंस ने 2016 में बीजेपी ज्वॉइन किया था. हंसराज हंस को संगीत की दुन‍िया में नायाब शख्स‍ियत में गिना जाता है. लेकिन ये बात शायद ही किसी को पता होगी की सूफी गायक हंसराज हंस और सुरों के बादशाह दलेह मेहंदी समधी हैं.

इन दो मशहूर सिंगर्स के बीच ये रिश्ता कैसे बना ये आज हम आपको बताने वाले हैं. 2017 में हंसराज हंस के बेटे नवराज हंस और दलेर मेहंदी की बेटी अवजीत कौर ने शादी की थी. अपने इस रिश्ते का मज़ेदार किस्सा हंसराज हंस और दलेर मेहंदी ने कप‍िल शर्मा के कॉमेडी शो पर सुनाया था.

दलेर मेहंदी ने बताया था- मैं हंसराज हंस जी का बहुत बड़ा फैन रहा हूं. इनके शो देखने के लिए बहुत धक्के खाए हैं. हम रिश्तेदार बन गए, इसके पीछे हंसराज हंस जी की मेहरबानी है कि मैंने इनके आगे दरख्वास्त डाली और उन्होंने सुन ली.

दलेर मेहंदी ने आगे कहा- मेरी बेटी अवजीत कौर मेहंदी ने मुझसे कहा, मेरा ब्याह करा दो, इस पर मैंने कहा- किससे करना है. वो बोली, जहां आप चाहो. मैंने फिर उस्ताद हंसजी के पास अर्जी लगाई. उन्होंने मेरी बात सुनी और अपने बेटे संग मेरी बेटी के र‍िश्ते को पक्का किया, बस ऐसे हम समधी बन गए.

ये भी पढ़ें : चुनावी ग़दर में सनी देओल हुए शामिल, सोशल मीडिया पर छाए हिट फिल्मों के डायलॉग

दोनों के रिश्ते की कहानी एंटी सुलजी हुई नहीं थी. कपिल शर्मा के शो पर आए मीका स‍िंह ने बताया था, ये जो बातें दोनों ने बताई उसके पहले का असली वाकया मैं सुनाता हूं.

ए‍क बार स‍िंगर हंसराज हंस और द‍लेर मेहंदी जी दोनों शो कर रहे थे. हमारे बड़े भाई दलेर मेहंदी पाजी ने हंस जी को शो के खत्म होने पर कहा, आप सीनियर का शुक्र‍िया. शो के बाद स‍िंगर जसबीर जस्सी, हंसजी के पास आग लगाने पहुंचा था. उसने हंसराज जी से कहा, दलेर जी ने आपको सीनि‍यर बोलकर बूढ़ा बोल द‍िया है. उसने ऐसी आग लगाई कि हंसजी ने गुस्से में द‍लेर पाजी को फोन पर जमकर खरी-खोटी सुनाई.

मीका स‍िंह ने आगे बताया- इसके बाद दलेर भाई और हंसराज जी के बीच जमकर लड़ाई हुई. जब दोनों की लड़ाई ज़्यादा बढ़ने लगी तभी मैंने दोनों की लड़ाई की वजह जानने के लिए हंसजी को फोन मिलाया, मैंने फोन करते ही एक सवाल किया, क्या जस्सी आया था आपके पास? हंस जी बोले- हां. बस ये सुनते मैं सब समझ गया, हम सबके बीच कोई आग लगाने वाला है तो वो ये है जसबीर जस्सी.

उस लड़ाई के बाद दोनों का रिश्ता इतना मजबूत बन गया कि ये र‍िश्तेदार हो गए.