जीत के लिए आस्ट्रेलिया ने एकबार फिर की चीटिंग, गेल के साथ किया इतना बड़ा धोखा

Gayle

आईसीसी क्रिकेट विश्व कप 2019 में बुधवार शाम वेस्टइंडीज और ऑस्ट्रेलिया के बीच शानदार मैच खेला गया। इस मैच में वेस्टइंडीज की टीम ने टॉस जीतकर पहले फील्डिंग का फैसला किया था। ऑस्ट्रेलियाई टीम पहले बल्लेबाजी करने उतरी और 38 रन के अंदर चार विकेट गंवा दिए लेकिन पहले स्टीव स्मिथ के 73 रन और उसके बाद अंत में नाथन कल्टर नाइल की 60 गेंदों पर 92 रनों की पारी के दम पर ऑस्ट्रेलिया ने ऑलआउट होने से पहले 288 रन बना डाले। इसके बाद जब वेस्टइंडीज की बारी आई तो सबकी नजरें क्रिस गेल पर टिक गईं लेकिन शुरुआती ओवरों में ही कुछ ऐसा हो गया जिसने नया विवाद खड़ा कर दिया।

दरअसल, सबसे पहले तो खराब अंपायरिंग की पोल तब खुली तब तीसरे ओवर में मिचेल स्टार्क गेंदबाजी कर रहे थे और क्रिस गेल बल्लेबाजी। इस ओवर की पांचवीं गेंद पर अंपायर ने गेल को आउट दिया, गेल ने रिव्यू लिया और रीप्ले में साबित हो गया कि अंपायर गलत हैं। वो बच गए। इसके बाद ओवर की आखिरी गेंद पर स्टार्क ने यॉर्कर फेंकी। अंपायर क्रिस गाफनी ने गेल को एलबीडब्ल्यू आउट दे दिया, गेल ने फिर रिव्यू लिया और अंपायर फिर गलत साबित हुए। गेल फिर बच गए।

फिर चौथे ओवर में स्टार्क और गेल फिर आमने-सामने आए और एक बार फिर पांचवीं गेंद पर एलबीडब्ल्यू की अपील हुई। अंपायर ने आउट दे दिया। गेल ने फिर रिव्यू लिया लेकिन इस बार गेल गलत साबित हुए और उन्हें पवेलियन लौटना पड़ा। तभी एक नया विवाद सामने आ गया। दरअसल, उससे पिछली गेंद यानी ओवर की चौथी गेंद का रीप्ले दिखाया गया तो पता चला कि स्टार्क का पांव पूरी तरह से क्रीज के बाहर गया था, अंपायर ये देखने से चूक गए थे। यानी अगर अंपायरों ने सतर्कता दिखाई होती तो जिस गेंद पर गेल आउट हुए, वो एक फ्री-हिट वाली गेंद होती ना कि एक आम गेंद।

इस दौरान कमेंट्री बॉक्स में मौजूद पूर्व भारतीय दिग्गज सुनील गावस्कर ने भी अंपायरिंग की खूब आलोचना की। उनका कहना था कि अंपायर की वो एक चूक मैच का नतीजा पलट सकती है और हुआ भी कुछ-कुछ वैसा ही। वेस्टइंडीज कुल 15 रन से हारा। यहां तक कि नौवें नंबर के बल्लेबाज ने भी मैच की अंतिम चार गेंदों पर चार चौके जड़ दिए। जब गेल आउट हुए थे तब वो लय में दिख रहे थे और 21 रन बना चुके थे। अंपायर ने अगर सतर्कता दिखाई होती तो शायद क्रिस गेल के रहने से मैच किसी और तरफ भी जा सकता था।