विटामिन सी की कमी बढ़ावा देती हैं इन सभी बिमारियों को, हो जाएं अलर्ट

एस्कॉर्बिक एसिड यानि विटामिन सी हमारे शरीर के लिए बेहद महत्वपूर्ण हैं. एस्कॉर्बिक एसिड एक ऐसा पॉवरफुल एंटी-ऑक्सीडेंट है, जो बॉडी के सर्कुलेटरी तंत्र के क्रिया के लिए जरुरी होता है. विटामिन सी के सेवन से आप कई बीमारियों से बचे रहते हैं. शरीर में विटामिन सी की कमी के कारन आपका इम्यून सिस्टम कमजोर हो सकता हैं, साथ ही दिल की बीमारी के साथ-साथ आखों पर भी असर पड़ सकता है. आइए जानते है विटामिन सी की कमी के चलते आप के शरीर पर और कैसे कैसे बदलाव देखने को मिल सकते है …..

कैसे पता करें विटामिन सी की कमी?

थकान आना
अगर आपको भी असामान्य रूप से थकान महसूस होता है तो ये विटामिन सी की कमी का संकेत हो सकता है. दरअसल, ये विटामिन शरीर में कार्निटाइन को कम करता है, जिससे मेटाबॉलिज्म और एनर्जी बढ़ती है. ऐसे में इसकी कमी के कारण आपके बेवजह थकान महसूस हो सकती है.

बॉडी पर नीले रंग के निशान
अगर शरीर पर नीले रंग के निशान पड़ने लगे तो समझ लें कि शरीर में विटामिन सी काफी कमी है। जिसके चलते रक्त वाहिकाएं कमजोर हो जाती है, और शरीर पर ऐसे निशान पड़ने लगते हैं.

ये भी पढ़ें : प्रियंका के भाई की शादी टली, होने वाली भाभी बनी वजह

नाक से खून बहना
अगर आपके भी नाक से अक्सर खून आता है, तो ये भी विटामिन सी की कमी के कारण हैं. इस समस्या को दूर करने के लिए अपने आहार में ज़्यादा से ज़्यादा विटामिन सी का उपयोग करें.

जोड़ों में दर्द के साथ सूजन
अक्सर ये समस्या बढ़ती उम्र वाली महिलाओं में पाया जाता हैं, लेकिन अगर आप भी जोड़ों में तेज दर्द और सूजन से परेशान है तो जान लें ये भी विटामिन सी की कमी बताता है. इससे जोड़ों में कोलेजन का स्तर कम हो जाता है, जिससे चलते आपको दर्द व सूजन की समस्या हो सकती है.

मूसड़ों से खून आना
मूसड़ों से खून आना, सूजन व दर्द की समस्या हो तो भी विटामिन सी की जांच करवाएं।. 30 की उम्र के बाद हर किसी को डाइट में 1000 मिलीग्राम विटामिन सी जरूर लेना चाहिए.

हेयर फॉल और रूखे बाल
अगर आपके बाल भी तेज़ी से झड़ रहे हैं ये भी विटामिन सी की कमी की वजह से हो सकता है. साथ ही रूखे, बेजान और दोमुंहे बाल भी इसकी कमी की ओर इशारा करता है.

कैसे करें इन बिमारियों को दूर?
खट्टे रसदार फल जैसे आंवला, नारंगी, नींबू, संतरा, बेर, कटहल, पुदीना, अंगूर, टमाटर, अमरूद, सेब, दूध, चुकंदर, चौलाई और पालक विटामिन सी के अच्छे स्रोत हैं. इसके अलावा दालों में भी विटामिन सी पाया जाता है. विटामिन के वसा में घुलनशील है, इसकी कमी से रक्त का थक्का जमना बंद हो जाता है. इसके स्त्रोत हरी सब्जियां, अंकुरित चने और फल हैं.