अंतरिम बजट 2019: यहां जानिए मोदी सरकार ने कहां-कहां दी टैक्स में छूट

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार ने अपने अंतरिम बजट में करदाताओं को खुश करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। शुक्रवार को कार्यकारी वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने बजट पेश करते हुए करदाताओं को लुभान के लिए कई बड़े ऐलान किए। इन सभी घोषणाओं के लिए सभी करदाता लंबे वक्त से इंतज़ार कर रहे थे। आइए जानते हैं कि केंद्र सरकार ने इस बजट में कितने और किस-किस छूट का ऐलान किया है।

5 लाख तक की कमाई पर नहीं होगी टैक्स की टेंशन

pm modi

पांच लाख तक की सालाना व्यक्तिगत कमाई अब पूरी तरह से टैक्स फ्री होगी। आपको बता दें कि फिलहाल 2.5 लाख रुपए तक की कमाई ही टैक्स फ्री थी।

अधिक कमाई पर इन्वेस्टमेंट से भी टैक्स छूट

अब विभिन्न इन्वेस्टमेंट उपाय करने वालों को 6.50 लाख रुपए की सालाना व्यक्तिगत इनकम पर भी कोई टैक्स नहीं देना होगा।

स्टैंडर्ड डिडक्शन

मोदी सरकार द्वारा पिछली बार पारित किए गए बजट में स्टैंडर्ड डिडक्शन 40 हज़ार रुपए से शुरूआत की गई थी। इस बार के बजट में इसे बढ़ाकर पचास हज़ार रुपए कर दिया गया है। सरकार के इस कदम से तीन करोड़ से भी ज़्यादा सैलरीड कर्मचारियों और पेंशनर्स को चार हज़ार सात सौ करोड़ रुपए का एक्स्ट्रा बेनेफिट मिलेगा।

किराए से होने वाली आमदनी पर टीडीएस सीमा

1lakh 80 thousand

किराए से होने वाली आमदनी पर टीडीएस सीमा को एक लाख अस्सी हज़ार से बढ़ाकर दो लाख चालीस हज़ार करने की घोषणा सरकार द्वारा की गई है।

ये भी पढ़ें: पीएम मोदी के बॉयपिक का जमकर उड़ रहा मजाक, वायरल हो गए ये मीम्स

दूसरे घर पर कोई टैक्स नहीं

अब दूसरे घर पर कोई कल्पित टैक्स नहीं देना होगा। मौजूदा वक्त में कल्पित किराए से होने वाली आमदनी पर टैक्स उन परिस्थितियों में देना होता है, जब किसी व्यक्ति के पास एक से ज़्यादा मकान हो, जिनमें वो खुद रह रहा हो। आयकर की धारा 54 के अनुसार, पूंजीगत फायदे के पुनर्निवेश पर छूट की सीमा को दो लाख करोड़ तक के पूंजीगत फायदे हासिल करने वाले टैक्सपेयर्स के लिए एक रेज़िडेंसियल मकान से दो रेज़िडेंसियल मकान में पुनर्निवेश तक बढ़ाया जाएगा।

ब्याज पर कोई कर नहीं

फायनेंस मिनिस्टर पीयूष गोयल ने डाक घर और बैंकों की बचत योजनाओं पर मिलने वाले सालाना चालीस हज़ार रुपए तक के स्रोत पर टैक्स की कटौती से छूट भी दी है। मौजूदा वक्त में ये छूट केवल दस हज़ार रुपए तक के ब्याज पर ही थी।

ग्रैच्यूटी सीमा भी बढ़ी

केंद्र सरकार ने ग्रेच्यूटी सीमा को भी दस लाख रुपए से बढ़ाकर तीस लाख रुपए करने का ऐलान किया है।