गोरखपुर से आई सनसनीखेज खबर, इश्क में अंधी बहन ने अवैध संबंधों में रोड़ा बने सगे भाई का गला काट डाला

अक्सर जब प्यार पागलपन की इंतहा तक पहुंच जाता है तो इंसान वहशी और दरिंदा बन जाता है। प्यार में इंसान के शैतान बनने की एक कहानी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के शहर गोरखपुर से सामने आई है। यहां एक बहन ने अपने अवैध संबंधों में बाधा बनने पर अपने ही सगे भाई को अपने प्रेमी के साथ मिलकर गला काटकर मार दिया।

एसपी साउथ विपुल कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि नगर के बेलघाट थाना क्षेत्र के बलकट गांव की रहने वाले 17 साल के अरुण की लाश 31 जनवरी की रात को मिली थी। किसी ने धारदार हथियार से गला रेतकर उसकी हत्या कर दी थी। परिजनों ने पांच लोगों पर हत्या का इलजाम लगाते हुए पुलिस में मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने जब इस हत्या की जांच शुरू की तो रोंगटे खड़े कर देने वाली सच्चाई सामने आई।

पुलिस की प्रथम दृष्टया जांच में सामने आया है कि अरुण की हत्या नामजद किए गए पांच लोगों ने नहीं, बल्कि उसकी ही सगी बहन पूजा और उसकी बड़ी बहन के देवर और पूजा के प्रेमी धर्मेंद्र ने की थी। पुलिस ने दोनों को सोमवार को गिरफ्तार कर लिया। इन दोनों की निशानदेही पर पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त ब्लेड, दुपट्टा और चाकू बरामद कर लिया है।

पुलिस की पूछताछ में पूजा और धर्मेंद्र ने स्वीकार किया है कि पिछले पांच सालों ने उन दोनों के बीच प्रेम संबंध हैं। उनके सबंधों की जानकारी परिवार को भी थी। लेकिन मृतक अरुण इनके रिश्ते की खिलाफत करता था। घटना वाली रात भी धर्मेंद्र पूजा से मिलने उनके घर आया था। अरुण ने दोनों को एक कमरे में अकेले देखा तो वो भड़क गया और दोनों को पीटने लगा।

अरुण से पहले से ही परेशान पूजा ने अपने दुपट्टे से उसका गला दबाना शुरू कर दिया। पूजा को ऐसा करते देख उसका प्रेमी धर्मेंद्र भी अरुण का गला दबाने लगा और दोनों ने मिलकर अरुण को गला घोंट कर मार डाला। बाद में दोनों अरुण की लाश को उठाकर रात में ही घर से दूर जंगल में ले गए। अरुण कहीं फिर से ज़िंदा ना हो जाए, ये सोचकर पूजा ने ब्लेड से मृतक अरुण का गला काटा। बाद में अरुण की लाश को एक आलू के खेत में फेंककर खामोशी से दोनों घर वापस आ गए। अगले दिन अरुण की लाश मिलने के बाद जब पुलिस ने अपने अंदाज़ में इस हत्या की जांच शुरू की तो सारी सच्चाई सामने आ गई। इस मामले के खुलासे के बाद हर कोई हैरान है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here