ये है अमेरिका का चंबल, लेकिन भारत के चंबल से कहीं अलग और खूबसूरत

जब भी कभी हम चंबल का नाम सुनते हैं तो हमारे दिमाग में जो सबसे पहली तस्वीर आती है, वो है झाड़ियों से घिरे एक ऐसे बीहड़ की, जहां कई खतरनाक डाकू रहते हैं। लेकिन आज हम आपको रूबरू करा रहे हैं अमेरिका के चंबल, यानि ग्रैंड कैनियन से, जो दिखने में भारत के चंबल से बेहद जुदा और खूबसूरत है।

अमेरिका के एरिजोना राज्य में कोलोरेडो नदी की घाटी में स्थित है अमेरिका का ये बीहड़, जिसे ग्रैंड कैनियन के नाम से जाना जाता है।

इस बीहड़ का निर्माण करोड़ों सालों में कोलोरेडो नदी के अपरदन की वजह से हुआ है। ये पूरा इलाका ग्रैंड कैनियन नेशनल पार्क के नाम से जाना जाता है।

भू-वैज्ञानिक ये दावा करते हैं कि इस विशाल और बेहद खतरनाक बीहड़ का निर्माण आज से लगभग साठ लाख सालों पहले हुआ था। उससे कई लाख साल पहले इस कैनियन का निर्माण होना शुरू हो गया था।

अमेरिका का ये बीहड़ इसलिए खतरनाक माना जाता है, क्योंकि यहां चारों तरफ विशाल और ऊंची-ऊंची चट्टानें हैं। इनके बीच अगर कोई गुम हो जाए तो उसका जीवित बच पाना मुश्किल समझा जाता है। क्योंकि यहां भटकने पर सबसे बड़ी समस्या पानी और खतरनाक जंगली जानवरों की आती है।

ग्रैंड कैनियन 446 किलोमीटर लंबा और छह हज़ार फीट गहरा है। वैज्ञानिक दावा करते हैं कि लगभग बीस करोड़ साल पहले कोलोराडो और उसकी सहायक नदी ने इस इलाके को परत दर परत काट कर इसे ये शक्ल दी है।

1779 में अमेरिका के अस्तित्व में आने से पहले इस घाटी में अमेरिकी इंडियंस रहते थे। बाद में ये लोग भी अमेरिकी आधूनिकता का हिस्सा बन गए।

यहां रहने वाले अमेरिकी इंडियंस का घर थी इस घाटी में बनी कई प्राचीन और विशाल गुफाएं। यहां पर आज भी आपको अमेरिकी इंडियंस के कई धार्मिक स्थलों के ढांचे मिल जाएंगे

ग्रैंड कैनियन आज अमेरिका में पर्यटन के सबसे बड़े केंद्रों में से एक है। यहां आने वाले पर्यटकों के लिए हवाई जहाज की व्यवस्था है, ताकि सभी पर्यटक आसमान से इस बेहद विशाल और बेरहम बीहड़ को एक नज़र में देख सकें।

हर साल यहां लाखों पर्यटक आते हैं और हर साल यहां पर्यटकों के खोने की खबरें भी आती रहती हैं। कई दफा कुछ पर्यटक यहां अपनी जान भी गंवा देते हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here