कोई पढ़ सकता है आपकी व्हाट्स एप ग्रुप चैट्स, कोई प्राइवेसी नहीं

 

क्या आपको भी लगता है कि आपके मोबाइल में आपने लॉक लगा लिया तो उसे कोई खोल नहीं सकता? उसकी चैट कोई नहीं पढ़ सकता है या कोई फोटोज़ नहीं देख सकता है ? अगर ऐसा लगता है तो आपको सावधान हो जाने की ज़रूरत है | दुनिया के 200 करोड़ और भारत के 40 करोड़ लोग अपने मोबाइल पर वॉट्सऐप का इस्तेमाल करते हैं और हर यूजर कोई न कोई ग्रुप से जुड़ा होता है। चाहे वो दोस्तों का हो, ऑफिस का और यदि आप भी ऐसे ग्रुप्स में प्राइवेट इंफॉर्मेशंस शेयर करते हैं तो सतर्क हो जाएं। आपके ग्रुप्स के मैसेज अनजान व्यक्ति आसानी से पढ़ सकते हैं। ऐसे में इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि आपका नाम और फोन नंबर भी अनजान हाथों में पड़ सकता है।

दरअसल, वेबसाइट मदरबोर्ड की रिपोर्ट के अनुसार, लाखों वॉट्सऐप ग्रुप की लिंक गूगल पर उपलब्ध है। मदरबोर्ड की टीम ने संयुक्त राष्ट्र से अधिमान्य एक एनजीओ के वॉट्सऐप ग्रुप का पता लगाया और वह जुड़ भी गई। उन्होंने पता लगाया कि वॉट्सऐप के ‘Invite to Group Link’ फीचर को गूगल पर सर्च किया जा सकता है। ऐप रिवर्स इंजीनियर जेन वॉन्ग के मुताबिक, ‘chat.whatsapp.com’ सर्च करने पर गूगल 4,70,000 रिजल्ट दिखाता है।

ये भी पढ़ें – 31मार्च के बाद आपका पैन कार्ड होगा रद्दी टुकड़ा

क्यों हो रहा है –

एडमिन लोगों को ग्रुप में शामिल करने के लिए ‘Invite to Group via Link’ फीचर का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन वे इसे सोशल मीडिया या किसी वेबसाइट पर शेयर कर देते हैं। ऐसे में गूगल जैसे सर्च इंजन इसे खोज लेते हैं।

वॉट्सऐप की सुनें –

प्रवक्ता एलिसन बॉनी ने कहा कि ‘किसी कंटेंट की तरह इन्वाइट लिंक भी पब्लिक चैनल पर शेयर की जाए तो कोई भी इस तक पहुंच सकता है।’ वहीं गूगल के लाइजन अफसर डैनी सुलिवान ने ट्वीट किया,‘गूगल और अन्य सर्च इंजन ओपन वेब में उपलब्ध रिजल्ट दिखाते हैं।’ हालांकि मामला उजागर होने के बाद गूगल ने इंडेक्सिंग बंद कर दी। हालांकि अन्य सर्च इंजन पर यह उपलब्ध है।

वॉट्सऐप पर प्राइवेसी एक “झूठ” है, एडमिन ऑनलाइन लिंक शेयर न करें : एक्सपर्ट

एक्सपर्ट्स की मानें तो एडमिन खुद ही ग्रुप इनवाइट्स को ऑनलाइन शेयर कर रहे हैं तो उन्हें लिंक सिर्फ उन्हीं लोगों से शेयर करनी चाहिए जिन्हे वे जानते हैं ना कि किसी वेबसाइट पर ।