युवराज के सन्यास से भीगी क्रिकेट जगत की हर आंखें, बेस्ट फ्रैंड ने दिया ये मैसेज

युवराज सिंह ने अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट से सन्‍यास ले लिया है. उन्‍होंने प्रेस कांफ्रेंस कर क्रिकेट को अलविदा कहने की जानकारी दी.

युवराज के संंन्‍यास की खबर सोशल मीडिया पर आते ही सनसनी मच गई.

भारतीय क्रिकेट टीम के युवराज ने सोमवार (10 जून) को खेल से विदा हो गए. युवराज सिंह ने क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से सन्यास लेने का ऐलान कर दिया. एक तरफ जहां युवराज के सन्यास को लेकर काफी समय से चर्चा चल रही थी वहीं आज कुछ ऐसे फैन्स भी हैं जो 22 गट की पट्टी के इस ‘बाहुबली’ की उन पारियों को याद कर रहे हैं. जिनमें युवराज सिंह ने टीम की हार को जीत में बदल दिया. ऐसी ही एक पारी युवराज सिंह ने आज से करीब 17 साल पहले खेली थी. इंग्लैंड के लॉर्ड्स मैदान पर खेले गए नेटवेस्ट सीरीज के फाइनल में भारत और इंग्लैंड के बीच भिड़ंत हुई. पहले बैटिंग करते हुए मेजबान टीम ने 50 ओवरों में 5 विकेट के नुकसान 325 रन बनाए.

326 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी टीम इंडिया के 132 के स्कोर पर सहवाग, गांगुली, दिनेश मोंगिया और द्रविड़ जैसे बल्लेबाज 21वें ओवर में ही आउट हो चुके थे. लेकिन फिर भी देशावसियों को सचिन से उम्मीद थी.  पर सचिन भी टीम के स्कोर ज्यादा आगे न ले जा सके और146 रन के स्कोर पर जैसे ही सचिन तेंदुलकर के रूप में टीम का 5वां विकेट गिरा तो जीत की उम्मीदें ही मानों खत्म हो गई. लोगों ने टीवी सेट बंद कर दिए. अभी 26 ओवर का गेम बाकि था और टीम को जीत के लिए 180 रन चाहिए थे. क्रीज पर थे युवराज सिंह और मोहम्मद कैफ….

युवराज सिंह ने इस मैच में दबाव में बैटिंग करते हुए  63 गेदों पर 69 रन बनाए जिसमें 9 चौके और 1 छक्का शामिल था. इस मैच में उन्होंने  मोहम्मद कैफ के साथ मिलकर 6 विकेट के लिए 121 रनों की साझेदारी की. कैफ ने मैच में 87 रनों की नाबाद पारी खेली थी और भारत ने रोमांचक मैच में 2 विकेट से जीत दर्ज कर खिताब अपने नाम किया था.

इस पारी को आज तक ना कोई क्रिकेट फैन भूला है और ना ही युवराज की उस पारी में उनके पार्टनर रहे मोहम्मद कैफ. कैफ ने आज युवराज के सन्यास पर एक बार फिर अपनी साझेदारी को याद किया. कैफ ने लिखा, ‘खेल के इतिहास में सबसे महान मैच विजेताओं में से एक, एक योद्धा जिसने कठिन चुनौतियों के बीच से एक असाधारण कैरियर बनाया और हर बार एक विजेता के रूप में निकले. हम सब तुमपर बहुत गर्व करते हैं युवराज सिंह. देश के लिए आपने जो कुछ भी किया है उसपर आपको भी बहुत गर्व होगा.’

बता दें कि अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट में 40 टेस्‍ट और 304 वनडे खेलने वाले युवराज ने सन्यास लेने पर कहा कि ये मेरे लिए बेहद भावुक पल है. इस अवसर पर उन्‍होंने कहा, ” 25 वर्षों तक 22 गज की पिच पर और तकरीबन 17 वर्षों तक अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट खेलने के बाद मैंने आगे बढ़ने का फैसला किया है. इस खेल ने मुझे लड़ना सिखाया, गिरना और फिर खड़े होकर आगे बढ़ना सिखाया.”

हालांकि इस बात के कयास रविवार को उस वक्‍त से ही लगाए जाने लगे थे जब युवराज सिंह ने सोमवार को बात करने के लिये साउथ मुंबई होटल में मीडिया को बुलाया था जिससे अटकलें लगाई जा रही थीं कि वह संन्यास की घोषणा कर सकते हैं. हालांकि उससे पहले से भी इस तरह की चर्चाएं चल रही थीं कि भारत के सर्वश्रेष्ठ सीमित ओवरों के क्रिकेटरों में से एक युवराज अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास पर गंभीरता से विचार कर रहे हैं और वह आईसीसी से मान्यता प्राप्त विदेशी ट्वेंटी20 लीग में फ्रीलांस कैरियर बनाना चाहते हैं.