1947 से लेकर बालाकोट तक, इतनी दफा भारतीय वायुसेना चखा चुकी है पाकिस्तान को मज़ा

इंडियन एयरफोर्स ने पुलवामा आतंकी हमले का मुंहतोड़ जवाब देते हुए पाकिस्तान के बालाकोट पर हमला कर उसे मुंहतोड़ जवाब दे दिया है। एयरफोर्स के मिराज 2000 फाइटर जेट ने पाकिस्तान के बालाकोट पर 1000 किलो के बम गिराए। कुल 12 मिराज विमानों ने इस ऑपरेशन को अंजाम दिया। आपको बता दें कि ये पहली बार नहीं है जब इंडियन एयरफोर्स ने पाकिस्तान को सबक सिखाया है। आईए जानते हैं दुनिया की चौथी सबसे ताकतवर एयरफोर्स यानि इंडियन एयरफोर्स के बारे में और इंडियन एयरफोर्स के उन ऑपरेशन्स के बारे में, जिनमें पाकिस्तान को मज़ा चखाया गया।

Mirage 2000 Fighter

भारतीय वायुसेना की सबसे बड़ी ज़िम्मेदारी है भारत की हवाई सीमा को सुरक्षित रखना और युद्ध के समय दुश्मन के ठिकानों पर जाकर हमला करना। भारतीय वायुसेना की स्थापना 8 अक्टूबर 1932 में की गई थी। शुरूआत में भारतीय वायुसेना के पास 25 सैनिक थे। इनमें से भी 19 फाइटर पायलट थे। फिर बाद में लगातार वायुसेना का आधूनिकीकरण होता गया और ये दुनिया की चौथी सबसे ताकतवर एयरफोर्स बनकर उभरी।

ये भी पढ़ें: शहीद मेजर की पत्नी ने किया एग्जाम टॉप, फौज में भर्ती हो अब देश की करेंगी सेवा

Air Force

भारत-पाक युद्ध, 1947

भारत के आज़ाद होने के साथ ही वायुसेना की परीक्षा हो गई। कश्मीर को लेकर भारत और पाकिस्तान में लड़ाई हो गई। पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए कश्मीर में वायुसेना को तैनात कर दिया गया। वायुसेना के सपोर्ट से भारत ने पाकिस्तान को युद्ध में हरा दिया।

Indo-Pak war, 1947

भारत-पाक युद्ध, 1965

1965 का युद्ध भारत और पाकिस्तान के बीच पहला हवाई युद्ध था। दूसरे विश्वयुद्ध के बाद पहली बार वायुसेनाओं ने आमने-सामने की लड़ाई लड़ी थी। उस दौर में तकनीकी रूप से पाकिस्तान की वायुसेना भारतीय वायुसेना से ज़्यादा मजबू थी। लेकिन कुशल रणनीति और अदम्य शौर्य के साथ भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तानी वायुसेना को मात दे दी। इस युद्ध में पाकिस्तानी एयर फोर्स ने अपने 186 फाइटर जेट्स में से 43 को भारतीय वायुसेना से बर्बाद करा लिया था।

Indo-Pak war, 1965

भारत-पाक युद्ध, 1971

पूर्वी पाकिस्तान को लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच ये युद्ध लड़ा गया था। इस युद्ध में भी भारतीय वायुसेना ने बेहद अहम भूमिका निभाई थी। दुश्मन को मार भगाने, हवाई सहायदा प्रदान करने और नौसेना की मदद करने में भारतीय वायुसेना ने अपनी भागीदारी को कुशलता के साथ निभाया था। भारतीय वायुसेना ने 1971 के युद्ध में पाकिस्तान के 94 फाइटर जेट्स को मार गिराया था।

Indo Pak war,

करगिल युद्ध, 1999

करगिल युद्ध में भी इंडियन एयरफोर्स ने बेहद अहम भूमिका निभाई थी। दुनिया के इतिहास में ऐसा पहली बार ही हुआ था जब एयरफोर्स का इस्तेमाल 32 हज़ार फीट की ऊंचाई पर किया गया था। इस बार भी मिराज 2000 ने दुश्मन को भारतीय सीमाओं के भागने के लिए मजबूर कर दिया था। पाकिस्तान के खिलाफ हुई ये जंग भारत ने 26 जुलाई 1999 को जीत ली थी। आज भी भारत में ये दिन विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है।

Kargil war