अगर आप भी टिक टॉक फैन हैं तो ये हो सकती है आपके लिए बुरी खबर

चाइनीज़ वीडियो एप ‘टिक टॉक’ को भारत में बंद करने के लिए बीते एक साल से विरोध चल रहा हैं. पिछले साल भी इस एप को बंद करने के लिए कई लोगों ने मांग की थी. जिसके बाद अब मद्रास हाई कोर्ट की मदुरै बेंच ने केंद्र सरकार को आदेश दिया है कि वो टिक टॉक एप की डाउनलोडिंग पर बैन लगाए. इसके साथ ही कोर्ट ने ये भी आदेश दिया कि सरकार टिक टॉक वीडियो को किसी भी सोशल मीडिया पर शेयर करने पर भी रोक लगाए.

आपको बता दें कि टिक टॉक एप न केवल सेहरों में बल्कि छोटे गांवों में भी काफी फेमस हैं. फसेबूक इंस्टाग्राम समेत अन्य सोशल मीडिया पर भी कई फनी वीडियो देखे जा सकते हैं. लोग इस प्लेटफार्म पर डांसिंग, सिंगिंग, फनी और हर तरह के वीडियो बनाते हैं. कोर्ट का ये कहना हैं कि इस टिक टॉक एप के माध्यम से लोग अश्लील वीडियो भी शेयर करने लगे हैं जो बच्चों के लिए हानिकारक हैं.

ये भी पढ़ें : स्टिंग में बोले भाजपा सांसद बहादुर कोली, मोदी की रैलियां में कालेधन से बुलाते हैं भीड़

कोर्ट ने सरकार से पूछा हैं क्या वो कोई ऐसा कानून लाएगी जिससे बच्चों को साइबर क्राइम से बचाया जा सके साथ ही दूर भी रखा जा सके. आपको बता दें कि अमेरिका में बच्चों को साइबर क्राइम से बचाने के लिए चिल्ड्रेन्स ऑनलाइन प्राइवेसी प्रोटेक्शन ऐक्ट है. जिसके ज़रिए बच्चों को साइबर क्राइम से बचाया जा रहा है. कोर्ट ने कहा हैं ऐसे कानून की भारत को भी ज़रूरत हैं. आए दिन भारत में साइबर क्राइम बढ़ रहा हैं, जिससे देश की सुरक्षा को काफी खतरा हैं.

ये भी पढ़ें : सुप्रीम कोर्ट जा पहुंचा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बनी बायोपिक, इस दिन होगी सुनवाई

यह ऐप पिछले एक साल दुनिया भर में कुछ ज्यादा ही लोकप्रिय हुआ है. बता दें कि कंपनी ने पहले इसे ‘म्यूजिकली’ के नाम से लॉन्च किया था, लेकिन बाद में इसका नाम बदलकर टिक टॉक रख दिया गया.