दुष्कर्म पीड़िताओं पर टिप्पणी को लेकर विवाद में फंसे केरल कांग्रेस अध्यक्ष, माफी मांगी

केरल कांग्रेस अध्यक्ष मुल्लापल्ली रामचंद्रन ने दुष्कर्म पीड़िताओं के लिए अपनी एक कथित टिप्पणी से रविवार को विवाद खड़ा कर दिया. हालांकि उन्होंने अपनी ही पार्टी कार्यकर्ताओं समेत अन्य महिला नेताओं की आलोचनाओं के बाद बिना शर्त माफी मांग ली.

विभिन्न मुद्दों पर एलडीएफ सरकार के खिलाफ एक प्रदर्शन को संबोधित करते हुए रामचंद्रन ने कहा, ‘‘यह (वाम दलों का) एक वेश्या को सजा-धजाकर पर्दे के पीछे खड़ा कर देने और उसकी कहानियां सुनाने का हताशापूर्ण कदम है. यह काम नहीं करेगा.”

उन्होंने कहा, ‘‘कोई भी समझ सकता है कि किसी महिला के साथ जब एक बार दुष्कर्म होता है. लेकिन अगर वह बार-बार यही बात कहे तो. आत्मसम्मान रखने वाली कोई महिला दुष्कर्म के बाद या तो खुदकुशी कर लेगी या फिर दोबारा यौन उत्पीड़न का शिकार नहीं होने की कोशिश करेगी.”

गौरतलब है कि सौर घोटाले की आरोपी सरिता नायर ने हाल ही में पुलिस से शिकायत कर कांग्रेस के पूर्व मंत्री ए पी अनिल कुमार पर दुष्कर्म का आरोप लगाया था. रामचंद्रन इस मामले को लेकर राज्य की वाम नीत एलडीएफ सरकार की आलोचना कर रहे थे.

राज्य की स्वास्थ्य मंत्री के के शैलजा ने रामचंद्रन के बयान को अत्यंत निंदनीय बताया, वहीं राज्य महिला आयोग ने उनके खिलाफ एक मामला दर्ज कर लिया. रामचंद्रन ने कहा कि उनके बयानों का कुछ लोगों ने गलत मतलब निकाला. शैलजा ने कहा कि ऐसे बयानों के लिए माफी मांगना ही पर्याप्त नहीं है और वह पहले भी इस तरह की टिप्पणियां कर चुके हैं.

केपीसीसी प्रमुख पर निशाना साधते हुए माकपा नेता बृंदा करात ने कहा कि यह उनका बहुत ही निंदनीय बयान है. कांग्रेस विधायक शनिमोल उस्मान ने भी रामचंद्रन के बयान की निंदा की.