मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड – श्मशान से मिली हड्डियों की पोटली, सीबीआई ने 11 लड़कियों की हत्या की आशंका जताई

muzzfarpur

मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन उत्पीड़न मामले में सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट में खुलासा किया है कि कि मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर और उसके सहयोगियों के खिलाफ 11 लड़कियों की कथित रूप से हत्या की भी जांच की जा रही है. इस दौरन सुप्रीम कोर्ट में सीबीआई ने बताया कि मुजफ्फरपुर में एक श्मशान घाट से हड्डियों की पोटली बरामद हुई है. वहीं इस पोटली की फॉरेंसिक जांच रिपोर्ट आनी अभी बाकी है.

केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो ने बताया कि एक आरोपी से मिली सुचना के आधार पर श्मशान घाट में एक खास जगह पर खुदाई की गई, जहां से हड्डियों को निकाला गया. बता दें कि जांच एजेंसी ने ब्रजेश ठाकुर सहित 21 लोगों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया है. वहीं, अब मुख्य न्यायधीश जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने अब इस मामले में याचिकाकर्ता को जवाब दायर करने को कहा है.

आपको बता दें कि इससे पहले इस मामले में याचिकाकर्ता निवेदिता झा ने सीबीआई पर आरोपियों को बचाने के लिए आरोप लगाया था. निवेदिता झा ने मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन उत्पीड़न मामले में दलील दी थी कि सीबीआई ने न तो आरोपियों पर हत्या जैसे अपराध की धराएं दर्ज की है और न ही इसमें शामिल बाहर के लोगों पर कार्रवाई की है. जिसके बाद उच्चतम न्यायलय ने इस पर केन्द्रीय जाँच एजेंसी से जवाब मांगा था. वहीं पटना सीबीआई एसपी देवेंद्र सिंह ने हलफनामा दायर किया है.

दरअसल, टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज (टीआईएसएस) की एक रिपोर्ट के बाद यह मुद्दा प्रकाश में आया था. जांच एजेंसी के मुताबिक ठाकुर के अलावा रवि रौशन (राज्य के समाज कल्याण विभाग अधिकारी) और रामानुज ठाकुर उर्फ मामू लड़कियों से छोटे कपड़ों में अश्लील गीतों पर डांस कराते थे.

वहीं, सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट में शुक्रवार को हलफनामा दायर कर बताया कि बड़े लोगों को बचाने के आरोप गलत हैं. सुप्रीम कोर्ट में दायर हलफनामे में सीबीआई ने कहा कि मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर समेत अन्य लोगों की 11 हत्याओं के मामले में भूमिका की जांच हो रही है.

ये भी पढ़ें : बीजेपी सांसद ने कहा – नहीं मिलेगी भाजपा को बहुमत, मोदी का दोबारा पीएम बनना मुश्किल