Navratri 2020: कल से नवरात्रि शुरू, यहां जानें पूजा सामग्री और कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त

Navratri 2020: कल है नवरात्र का पहला दिन, माना जा रहा है कि ऐसा महासंयोग 58 साल बाद बन रहा है. ये शुभ योग नवरात्रि को खास बना रहे हैं. इस दौरान मां दुर्गा को लाल वस्त्र, फल और फूल अर्पित करने से आपको काफी लाभ मिलेगा. इस बीच दुर्गा सप्तशती का पाठ करने से आपकी मनोकामनाएं भी पूरी हो सकती हैं. इस बार शारदीय नवरात्रि 17 अक्टूबर से शुरू होकर 25 अक्टूबर तक रहेगी. नवरात्रि के पहले दिन मां शैलपुत्री की उपासना की जाती है. और इसी दिन घटस्थापना भी करते हैं. जिसे कलश स्थापना भी कहा जाता है. जौ बोने के साथ-साथ ज्योति भी जलाई जाती है. पूरे विधि-विधान से नवरात्रि के व्रत रखने वालों को मां दुर्गा का आशीर्वाद प्राप्त होता है. मान्यता है कि कलश स्थापना मां दुर्गा का आह्वान है, और शक्ति की इस देवी का नवरात्रि से पहले वंदन करना शुभ माना जाता है. मान्यता है कि इससे देवी मां 9 दिनों तक घरों में विराजमान रहकर भक्तों पर अपनी कृपा बरसाती हैं. नवरात्रि की शुरूआत कलश स्थापना के साथ होती है. कलश स्थापना और पूजा की विशेष तैयारी की जाती है. इस लिए पूजन का समान पहले से ही तैयार कर लें. जिससे आपकी पूजा में कोई बाधा ना आए. तो चलिए हम आपको बताते है क्या समान चाहिए नवरात्र पूजा के लिए.

पूजा सामग्रीः

लाल रंग मां दुर्गा को अधिक पसंद माना जाता है. मां के लिए लाल चुनरी, कुमकुम, मिट्टी का पात्र, जौ, साफ की हुई मिट्टी, जल से भरा हुआ सोना, चांदी, तांबा, पीतल या मिट्टी का कलश, लाल सूत्र, मौली, इलाइची, लौंग, कपूर, साबुत सुपारी, साबुत चावल, सिक्के, अशोक या आम के पांच पत्ते, पानी वाला नारियल, फूल माला और नवरात्रि कलश मंगा लें. पूजा के लिए लाल रंग के आसन का इंतजाम कर लें. आसन ना होने पर आप लाल रंग के कपड़े का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. इसके अलावा

9dci7r6oनवरात्रि को हिन्दू घर्म में बहुत धूम धाम से मनाया जाता है. 

ज्योत के लिएः

जोत लिए मिट्टी या पीतल का दिया, रूई या मोली की बत्ती, रोली या सिंदूर, चावल जरूर रखें. हवन के लिए हवन कुंड, लौंग का जोड़ा, कपूर, सुपारी, गुग्ल, लोबान, घी, पांच मेवा और अक्षत का इंतजाम कर लें. नवरात्रि में हवन करना बहुत शुभ माना जाता है.

घटस्थापना का शुभ मुहूर्तः

घटस्थापना का शुभ मुहूर्त शनिवार, सुबह 6 बजकर 10 मिनट पर है.
और सुबह 11 बजकर 02 मिनट से 11 बजकर 49 मिनट तक