दिल्ली: कांग्रेस नहीं करेंगी AAP से गठबंधन, सातों सीट पर उतारेगी उम्मीदवार

आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के गठबंधन की संभावना अब समाप्त हो गई. आपको बता दें कि कांग्रेस ने साफ़ कर दिया है कि पार्टी दिल्ली की सभी सात लोकसभा सीटों पर अकेले ही चुनाव लड़ेगी. राहुल गाँधी ने गठबंधन की चर्चा के लिए आज एक अहम बैठक बुलाई थी. इस बैठक कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता भी शामिल हुए.

गौरतलब है कि शीला दीक्षित ने बताया कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ दिल्ली के वरिष्ठ नेताओं की बैठक में आम आदमी पार्टी के साथ कोई गठबंधन नहीं करने का फैसला किया गया. वहीं सूत्रों के मुताबिक, इस बैठक में दोनों पार्टियों के बीच सीट बंटवारे के लिए 3+3+1 के फॉर्मूले पर विचार किया गया. इस फॉर्मूले के तहत आम आदमी पार्टी (AAP) और कांग्रेस दिल्ली की कुल 7 लोकसभा सीटों में से 3-3 सीटों पर अलग-अलग चुनाव लड़ती. एक सीट पर दोनों दलों के संयुक्त उम्मीदवार को उतारा जाना था. हालांकि राहुल गांधी के साथ कांग्रेस नेताओं की बैठक में गठबंधन न करने का फैसला लिया गया.

आपको बता दें कि अभी कुछ दिन पहले ही आम आदमी ने पार्टी ने दिल्ली की 7 लोकसभा सीट में से 6 पर अपने उम्मीदवारों को घोषणा कर दी थी. केजरीवाल ने कहा था कि, कांग्रेस आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं करना चाहती हैं. वो दिल्ली और उत्तर प्रदेश में बीजेपी को जीतना चाहती है. वहीं 7वीं सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को खड़ा किया जा सकता है, जिन्हें दोनों पार्टियों का समर्थन रहेगा.