अमेरिकी न्यूज़ एजेंसी का दावा, पाकिस्तान के सभी F-16 विमान जांच में मौजूद मिले

एक अमेरिकी न्यूज़ एजेंसी की तरफ से दावा किया गया है कि भारत का फ़रवरी में पाकिस्तान के साथ हुए संघर्ष में पाकिस्तानी एफ-16 लड़ाकू विमान को मार गिराने की सूचना पुरे तरीके से गलत हो सकती है. आपको बता दें कि फॉरेन पॉलिसी नाम की एक अमेरिकी न्यूज़ पब्लिकेशन ने अपनी एक रिपोर्ट में कुछ अनाम अमेरिकी रक्षाधिकारीयों के हवाले से इस तरीके का दावा किया है.

गौरतलब है कि गुरुवार को प्रकाशित रिपोर्ट में पब्लिकेशन ने लिखा , “हालात की सीधी जानकारी रखने वाले अमेरिका दो वरिष्ठ रक्षा अधिकारियों ने ‘फॉरेन पॉलिसी’ को बताया कि अमेरिकी अधिकारियों ने हाल ही में पाकिस्तान के एफ-16 विमानों की गिनती की, और कोई भी विमान गायब नहीं पाया गया…” भारत सरकार ने कहा था कि 27 फरवरी (पाकिस्तान के बालाकोट में स्थित आतंकवादी ट्रेनिंग कैम्प पर भारतीय वायुसेना द्वारा किए गए हवाई हमले से अगले दिन) को एक हवाई संघर्ष में भारतीय वायुसेना के पायलट अभिनंदन वर्धमान ने उस पाकिस्तानी लड़ाकू विमान को मार गिराया, जो भारतीय सैन्य ठिकानों को निशाना बनाने की कोशिश कर रहा था. इसी संघर्ष में अभिनंदन वर्धमान के विमान पर भी हमला हुआ, और उन्हें इजेक्ट करना पड़ा था. अभिनंदन वर्धमान नियंत्रण रेखा के पार जाकर उतरे, और तीन दिन तक पाकिस्तान की हिरासत में रहे, और फिर उन्हें भारत को लौटाया गया.

आपको बता दें कि इस रिपोर्ट में एक अनाम अधिकारी के हवाले से लिखा गया है कि गिनती पूरी हो गई है, और सभी विमान मौजूद हैं…” ‘फॉरेन पॉलिसी’ के मुताबिक, “मुमकिन है कि संघर्ष के दौरान मिग-21 बाइसन में सवार (अभिनंदन) वर्धमान ने पाकिस्तानी एफ-16 पर निशाना लॉक कर लिया हो, मिसाइल दागी भी हो, और उन्हें वास्तव में लगता हो कि उनका निशाना अचूक रहा. लेकिन पाकिस्तान में अमेरिकी अधिकारियों द्वारा की गई गिनती भारत के पक्ष पर शक पैदा करती है, और संकेत देती है कि भारतीय अधिकारियों ने संभवतः अंतरराष्ट्रीय समुदाय को उस दिन की घटनाओं के बारे में गुमराह किया.

वहीं रिपोर्ट में आगे लिखा है कि पाकिस्तान एयरफोर्स के कुछ विमान जांच के दौरान उपलब्ध नहीं थे, इसकी वजह इंडिया पाकिस्तान के रिश्ते में गर्माहट बताया गई. यही वजह थी की इस जाँच में देरी हुई. हालांकि जाँच के समय सभी जहाज़ मौजूद रहें.