पिता भारतीय केंद्रीय मंत्री तो बेटा पाक सेना की शान, इस जोड़ी के बारे में आप भी नहीं जानते होंगें

आज हम आपको ऐसे भारतीय केंद्रीय मंत्री के बारे में बताने जा रहे हैं जिसका बेटा पाकिस्तान सेना में उच्च पद पर काबिज है.

आजादी के वक्त से ही सुर्खियों में रही आजाद हिंद फौज के बड़े अफसर थे जनरल शाह नवाज खान. वह पाकिस्तान (तब अविभाज्य भारत) के रावलपिंडी जिले के मटोर गांव में पैदा हुए थे. इसके साथ ही उन्होंने पढाई भी वही से की थी. इसके बाद में वह ब्रिटिश सेना में कैप्टेन बने.

पर वह चर्चा में तब आए जब नेताजी सुभाष चंद्र बोस की आजाद हिन्द फौज में शामिल हो गए. वहां नेताजी के करीबी लोगों में रहने के साथ आजाद हिंद फौज में मेजर जनरल थे.

ये भी पढ़ें : सहवाग के बेबीसिटिंग वाले एड से इस ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी को लगी मिर्ची

इतिहास में जैसा जिक्र है उसके मुताबिक जब आजाद हिन्द फौज ने समर्पण किया, तब ब्रिटिश सेना ने उन्हें पकड़कर लाल किले में डाल दिया. प्रसिद्ध लाल किला कोर्ट मार्शल ट्रॉयल हुआ.

देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने उनके लिए वकालत की. आज़ाद हिन्दुस्तान में लाल किले पर ब्रिटिश हुकूमत का झंडा उतारकर तिरंगा लहराने वाले जनरल शाहनवाज ही थे.

इनका पूरा परिवार रावलपिंडी में ही रहता था, इनकी तीन बेटियां और तीन बेटे थे. आजादी के समय जब देश का बंटवारा हुआ तो वो हिन्दुस्तान से मोहब्बत के चलते यहां आ गए.

बात 1965 की है जब युद्ध छिड़ा तो शाहनवाज तब लाल बहादुर शास्त्री की सरकार में कृषि मंत्री थे. उनके इस बेटे का नाम महमूद नवाज अली था. उस समय अचानक ये खबर फैलने लगी कि उनका बेटा पाकिस्तानी सेना की ओर से भारत के खिलाफ लड़ाई में हिस्सा ले रहा है.

आपको बता दें कि जब तक महमूद नवाज पाकिस्तानी सेना में रहे, तब तक अपने पिता से कभी नहीं मिल सके, क्योंकि सेना का नियम उन्हें इसकी इजाजत नहीं देता था लेकिन रिटायरमेंट के बाद वो पिता से मिलने जरूर भारत आए.