अल्का याग्निक के ये गाने किसी का भी मूड बनाने के लिए काफी हैं

बात है साल 1976 की. कोलकाता से एक बच्ची, उम्र महज 10 साल थी, अकेले तो इस उम्र में आ नहीं सकते तो अपनी मां के साथ मुंबई आई थी. सपना बॉलीवुड में चाइल्ड आर्टिस्ट के तौर पर गाने गाना.

बच्ची की मां भी यही चाहती थी. जिस वजह से कोलकाता से मुंबई ले आई थी. तब बच्ची और उसकी मां से ये कहा गया, कि उन्हें थोड़ा इंतजार करना चाहिए. तब तक इंतजार करना चाहिए जब तक उनकी बेटी की आवाज़ में थोड़ी मैच्योरिटी नहीं आ जाती. लेकिन बच्ची की मां, इस सुझाव के बाद भी कोशिश करती रही. आखिर में कोशिश सफल हुई.

फिर एक दौर आया जब एक्टर राज कपूर को बच्ची की आवाज़ में दम दिखा. इसलिए उन्होंने बच्ची को म्यूजिक डायरेक्टर लक्ष्मीकांत से मिलने भेजा. लक्ष्मीकांत ने दो ऑप्शन दिए. पहला बच्ची या तो तुरंत डबिंग करना शुरू कर दे, या फिर गाने के लिए थोड़ा इंतजार करे.

बच्ची की मां, जिनका नाम शुभा था, उन्होंने इंतजार करने का ऑप्शन चुना. कुछ साल रुकने के बाद बच्ची को एक फिल्म में गाने का मौका मिल गया. फिल्म थी ‘पायल की झनकार’. जो साल 1980 में आई थी. इस फिल्म का गाना ‘थिरकत अंग’ इसी बच्ची ने गाया था. तब किसी को इस बात का जरा भी अंदाजा नहीं रहा होगा, कि आगे चलकर ये बच्ची भारत की मशहूर सिंगर्स की लिस्ट में शुमार हो जाएगी. ये बच्ची को आज आप और हम अल्का याग्निक के नाम से जानते हैं.

आपको बता दें कि अल्का का जन्म 20 मार्च 1966 में हुआ था. उन्हें बचपन से ही गाने का शौक था. वो जब 6 साल की थीं, तब कोलकाता आकाशवाणी में भजन गाया करती थीं. मां क्लासिकल सिंगर थीं. अपनी बेटी अल्का का टैलेंट पहचान गईं. और फिर फिल्मों में गंवाने की कोशिश में जुट गईं. वही कोशिश जिसके बारे में आपने सबसे ऊपर पढ़ा.

90 के दशक की कई फिल्मों के कई गाने अल्का ने ही गाए. इनके गानों की लिस्ट तो बेहद लंबी होगी. लेकिन हम आपके लिए लेकर आए हैं, अल्का के उन गानों की प्लेलिस्ट, जिन्हें अगर आप सुबह सुन लेंगे, तो आपका दिन बन जाएगा. इनमें से ज्यादातर गाने अल्का ने सोलो गाए हैं-

#1

#2

#3

#4

#5

#6

#7

#8

#9

#10