कोरोना संक्रमण को लेकर दिल्ली में स्थिति सामान्य हुई : सत्येंद्र जैन

Delhi Coronavirus: दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि कल दिल्ली में 2920 पॉजिटिव केस मिले थे. कल कुल 56,258 टेस्ट किए गए. पॉजिटिविटी रेट कम होकर 5.19 फ़ीसदी पर आ गई है. कल 37 मौतें हुई थीं, डेथ रेट 1.9 फ़ीसदी है. देशभर में कोराना वायरस से एक लाख मौतों के आंकड़े को लेकर सत्येंद्र जैन ने कहा कि एक समय में दिल्ली दूसरे नंबर पर चल रही थी. अब दिल्ली छठे नंबर पर है. हम मान कर चलते हैं कि दिल्ली में स्थिति सामान्य हो चुकी है. एक लाख से ज्यादा मौतें दुखद हैं. यह बहुत खतरनाक बीमारी है. इससे बचकर रहना चाहिए, मास्क जरूर लगाना चाहिए और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना चाहिए

घटते संक्रमण दर पर
सत्येंद्र जैन ने कहा कि हमने बड़े स्तर पर टेस्टिंग स्टार्ट किए थे. लॉकडाउन के बाद जब अनलॉक हुआ, तो उसके बाद केसेज में कुछ बढ़ोतरी हुई. फिर हमने जो रणनीति बनाई, वो  कामयाब हुई है. हमने कहा भी था कि दो-तीन हफ्ते में केसेज कम होंगें. ये कम होने शुरू भी हो चुके हैं. जो संक्रमण दर 8-10 फ़ीसदी पर पहुंच चुकी थी, वो अब साढ़े 5 फ़ीसदी से नीचे आ चुकी है.

बेड ऑक्यूपेंसी पर
जैन ने कहा कि बेड की उपलब्धता की स्थिति पहले से बेहतर है. पिछले सात-आठ दिनों में बेड ऑक्यूपेंसी 1000 से कम हुई है. जल बोर्ड और एमसीडी के बकाया विवाद पर उन्होंने कहा कि तीनों एमसीडी पानी के बिल का पेमेंट नहीं कर रहीं हैं. उन्हें पेमेंट करनी चाहिए. मैंने तो यह भी सुना था कि उन्होंने दिल्ली सरकार पर कई हज़ार करोड़ रुपए के बकाए की बात कही है. अगर दिल्ली में देखें, तो दिल्ली में दिल्ली सरकार की बिल्डिंग से ज्यादा बिल्डिंग केंद्र सरकार की हैं. ऐसा है, तो हाउस टैक्स से ही एमसीडी को 10-20 हजार करोड़ रुपए मिलने चाहिए थे. जहां तक पानी के बिल की बात है, तो हमने आजकल स्कीम निकाली हुई है, पैनल्टी माफ है, पहले वे टैक्स जमा तो कराएं. उनका हाउस जल बोर्ड पर कैसे हो सकता है, जल बोर्ड की कितनी बिल्डिंग्स होंगीं दिल्ली में. दिल्ली सरकार के जिन विभागों का है, वे सब पेमेंट करते हैं.

हाथरस मामले पर
यह पूरा बहुत ही दुखद है. रेप जैसी घटनाएं और फिर उसमें जो दरिंदगी हुई, उससे लगता है कि लोगों को सिस्टम से डर नहीं लग रहा है. लोगों के मन में डर पैदा होना चाहिए. इस मामले में जल्द से जल्द सजा होनी चाहिए, ताकि ऐसा काम करने से पहले कोई हजार बार सोचे. इसको रोकने की सख्त जरूरत है. जांच तो अभी लगता है कमजोर चल रही है.