रूस ने बनाई एक वार में तबाह कर देनी वाली दुनिया की सबसे शक्तिशाली पनडुब्बी

Submarine

सैन्य ताकतों में रूस को कोई सानी नहीं है. मगर अपनी ताकतों में रूस ने और इजाफा कर लिया है. रूस ने अपनी नौसेना में दुनिया की सबसे लंबी पनडुब्बी को शामिल किया है. इस नौसेना नाम बेलगोरोड रखा गया है.

जानकार बताते हैं कि 604 फीट लंबी बेलगोरोड इतनी ताकतवर है कि यह एक वार से पूरे शहर को तबाह कर सकती है. विशेषज्ञों के अनुसार इसमें 6 परमाणु हथियारों से लैस टॉरपीडो लगाए गए हैं. 6 टॉरपीडो 2 मेटाटन विस्फोटक अपने साथ ले जाने में समर्थ हैं.

रक्षा मामलों के जानकार बताते हैं कि रूस की नौसेना ताकत बढ़ने से भारत को भी कहीं ना कहीं फायदा होगा. क्योंकि भारतीय नौसेना रूस से ही पनडुब्बियां खरीदता आ रहा है.

इसके साथ ही 2 मेटाटन विस्फोटक की क्षमता को आप इस तरह समझ सकते हैं कि यह जापान के हिरोशिमा में फटे बम से 130 गुना ज्यादा है. जानकारों का कहना है कि बेलगोरोड पनडुब्बी में लगे 79 फीट लंबे टॉरपीडो पोसेइडोन या कैनयोन अगर समुद्र के अंदर इस्तेमाल होंगे तो रेडियोएक्टिव सुनामी आ सकती है.

रेडियोएक्टिव सुनामी कई तटीय शहरों में तबाही ला सकती है और और समुद्र में 300 फीट तक ऊंची लहरें भी उठ सकती हैं. रूसी मीडिया के मुताबिक, बेलगोरोड पनडुब्बी हजारों किलोमीटर तक वार कर सकती है और इसकी गति 80 मील प्रति घंटा है.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक रूस इस नई पनडुब्बी के कमांडर सीधे पुतिन को रिपोर्ट करेंगे. यह अंडरवाटर इंटेलिजेंस एजेंसी की तरह रूस के लिए काम करेगी और इसके साथ चलने वाले अंडरवाटर यान गहराई में समुद्र के तल की मैपिंग कर सकेंगे.

वहीं जानकारी के लिए बता दें कि इस रॉयल यूनाइटेड सर्विस इंस्टिटूट के डॉक्टर सिद्धार्थ कौशल का मानना है कि बेलगोरोड पनडुब्बी रूस के लिए बेहद महत्वपूर्ण साबित होगी. क्योंकि समुद्र के अंदर फैले इंटरनेट केबल को बर्बाद करने के लिए इसका इस्तेमाल की जा सकती है.

हाल ही में भारत ने परमाणु क्षमता से संपन्न हमलावर पनडुब्बी पट्टे पर लेने के लिए रूस के साथ तीन अरब डॉलर का समझौता किया है. इस समझौते के तहत रूस अकुला वर्ग की पनडुब्बी को भारतीय नौसेना को 2025 तक में सौंपेगा.

इसके पहले भारत ने पहली रूसी परमाणु संचालित पनडुब्बी आईएनएस चक्र को तीन वर्ष की लीज पर 1988 में लिया गया था. इसके बाद दूसरी आईएनएस चक्र को दस वर्षों की लीज के लिए 2012 में हासिल किया गया था.